अकाउंटेंट कैसे बने bitcoin4buying

अकाउंटेंट ऐसा पद है जो केंद्र या  राज्य सरकारों के अंतर्गत आता है, अकाउंटेंट बनना कई सरे विद्यार्थियों का सपना होता है सम्मानजनक पद भी है. इसीलिए आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की अकाउंटेंट कैसे बने?

आज हम अकाउंटेंट की सारी कोर्सों की जानकारी विस्तार पूर्वक बताने जा रहे हैं जिससे आपको अकाउंटेंट से संबंधित सभी बातें जानने को मिलेगी.

अकाउंटेंट क्या होता है? 

अकाउंटेंट एक सरकारी नौकरी के साथ-साथ प्राइवेट नौकरी भी है जो विद्यार्थियों पर आधारित है कि वे अकाउंटेंट का फॉर्म गवर्नमेंट में अप्लाई कर रहा है या प्राइवेट के लिए अप्लाई कर रहे हैं. 

अकाउंटेंट बहुत ही सम्मानजनक पर है जिसे हासिल करना लगभग सभी विद्यार्थियों की सपना होती है लेकिन इस पद को वही विद्यार्थी पाने में सक्षम हो पाता है जो खासकर कॉमर्स लेकर अपनी पढ़ाई को पढ़ रहे हैं.

जिस विद्यार्थी को अकाउंटेंट बनने की चाहत होती है उन्हें दसवीं पास होने के बाद अपनी 11वीं की पढ़ाई को कॉमर्स विषय से पढ़नी चाहिए ताकि अकाउंटेंट से संबंधित लगभग सभी जानकारी उन्हें शुरुआती शिक्षा से ही प्राप्त हो सके.

अकाउंटेंट पद एक सम्मानजनक और सर्वश्रेष्ठ पद है जो केंद्रीय राज्य सरकार के अंतर्गत दी जाती है जिसमें चयन हुए उम्मीदवार को जिस भी डिपार्टमेंट में वह काम कर रहे हैं उस डिपार्टमेंट की सारी लेख जोक को संभालना होता है.

अकाउंटेंट पर प्राइवेट के साथ-साथ गवर्नमेंट भी है और आज की जनरेशन में लगभग सभी विद्यार्थियों की इच्छा सरकारी नौकरी को हासिल करने की होती है जिसके लिए वह कड़ी मेहनत और लगन के साथ-साथ अपनी पढ़ाई को इमानदारी पूर्वक कर रहे होते हैं. 

अकाउंटेंट पद स्टूडेंट हासिल करने में सक्षम हो पाते हैं जो अकाउंटेंट से संबंधित सभी कोर्सों को और कोर्सों के साथ-साथ अन्य जानकारियों को भी इमानदारी पूर्वक पढ़कर प्राप्त किए होते हैं क्योंकि इसमें बहुत सारे रूल्स फॉलो करने होते हैं तभी जाकर आप एक अकाउंटेंट बन सकते हैं.

इसे भी जरूर पढ़ें:

अकाउंटेंट बनने के लिए योग्यताएं

जो कैंडिडेट अकाउंटेंट की परीक्षा देना चाहते हैं उनमें इससे संबंधित सभी  योग्यताएं होना अनिवार्य है. तभी वह इस परीक्षा में सफल होने में सक्षम हो पाएंगे.

यदि आप भी अकाउंटेंट बनने की इच्छा रखते हैं तो आपको मम्मी पास होना अनिवार्य हैं , और दसवीं बाद 11वीं की पढ़ाई कॉमर्स से करें तो आपके लिए हेल्पफुल होगा.

अकाउंटेंट पद केंद्र और राज्य सरकार के अंतर्गत आने वाले पद हैं जो लगभग इसके सभी डिपार्टमेंट में उम्मीदवारों को प्रदान किया जाता है.

यदि आप भी इस एग्जाम में सफल होना चाहते हैं तो आप में इस एग्जाम से संबंधित सारी योग्यताएं होनी चाहिए तभी आप एक अकाउंटेंट बनने में अपने आप को सक्षम पाएंगे.

अकाउंटेंट बनने की प्रक्रिया

अकाउंटेंट नौकरी बहुत ही सम्मानजनक और महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह पद केंद्र और राज्य सरकार के अंतर्गत प्रदान की जाती है जिसकी समाज में बहुत इज्जत है.

एग्जाम को क्लियर करने के लिए एक उम्मीदवार को इस एग्जाम से संबंधित सभी कोर्सो के साथ-साथ इससे संबंधित सारी रूल्स की जानकारी को रखना अनिवार्य है.

अकाउंटेंट की एग्जाम के लिए अप्लाई किए गए उम्मीदवारों को दसवीं के बाद ही 11वीं में कॉमर्स की विषय को चयन कर आगे की पढ़ाई को जारी रखना चाहिए जिससे उन्हें अकाउंटेंट से संबंधित सभी जानकारी शुरुआती से ही मिलते चले आए.

12वीं बाद एकाउंटिंग की बेसिक चीजों को सीखनी चाहिए जैसे पहला tally में अकाउंट को कैसे क्रिएट करें? और रजिस्टर कैसे बनाएं?

वही दूसरा एकाउंटिंग की बेसिक चीजों के साथ-साथ कंप्यूटर की बेसिक चीजों की जानकारी रखना बहुत ही अनिवार्य है इसके साथ साथ जीएसटी इनकम टैक्स एक अकाउंटेंट के लिए सीखना बहुत ही आवश्यक है.

एक अकाउंटेंट उम्मीदवार को 12वीं पास के बाद B.Com करना अनिवार्य है. बीकॉम में बहुत सारे कोर्स की पढ़ाई करनी पड़ती है जैसे:-

  • B.Com in accounting and finance.
  • BCom in accounting and commerce
  • BCom in accounting and taxation.
  • Bachelor of commerce in accountancy.

बरौनी बाद बीकॉम में विक्रम से संबंधित इतने सारे कोर्सों को कर सकते हैं जिसकी डिग्री इस एग्जाम के लिए बहुत ही अनिवार्य है.

बहुत से ऐसे इंस्टिट्यूट हैं जिसमें आपको अकाउंटेंट के लिए जीएसटी, कंप्यूटराइज्ड अकाउंटिंग, टीडीएस, ई पेमेंट, e-filing, बिजनेस अकाउंटिंग इत्यादि कोर्सों को बताया जाता है जो एक अकाउंटेंट के लिए बहुत ही आवश्यक है.

यदि आप भी अकाउंटेंट बनना चाहते हैं तो आपको या इंस्टिट्यूट ज्वाइन करना बहुत ही आवश्यक है जिससे आपको अकाउंटेंट से संबंधित सभी चीजों की जानकारी मिल सके.

अकाउंटेंट बनने के लिए आवश्यक योग्यता

यदि आप अकाउंटेंट बनना चाहते हैं तो आपको अकाउंटेंट के लिए अपने आपको पढ़ाई के साथ साथ अच्छी पर्सनालिटी को भी उभारना होगा.

तभी आप एक अकाउंटेंट बन सकते हैं इसके लिए आपको अच्छी कम्युनिकेशन स्किल की आवश्यकता है.

एनसी सॉफ्टवेयर का ज्ञान होना अनिवार्य है, प्रक्रिया की समझ होना बहुत जरूरी है एक अकाउंटेंट के लिए, मैथमेटिक्स में अधिक ज्ञान की आवश्यकता है.

इसके साथ साथ कंप्यूटर के क्षेत्र में ज्यादा समय देने की क्षमता भी एक अकाउंटेंट की होनी चाहिए.

एकाउंटिंग करने के लिए टाइम टेबल

जो विद्यार्थी एकाउंटिंग की पढ़ाई पढ़ रहे हैं उन्हें एकाउंटिंग से संबंधित सभी कोर्सो की जानकारी रखना अनिवार्य है.

इसके साथ हर एक कैंडिडेट को अपनी पढ़ाई के अनुसार टाइम टेबल बनाना चाहिए क्योंकि टाइम मैनेजमेंट ही हमें सफलता का रास्ता दिखाता है और टाइम मैनेजमेंट के लिए टाइम टेबल होना बहुत जरूरी है.

इसलिए सफल होने के लिए अपनी पढ़ाई का टाइम टेबल बनाना बहुत जरूरी है.

अकाउंटेंट बनने के लिए जो विद्यार्थी अकाउंटेंट की पढ़ाई पढ़ रहे हैं उन्हें टाइम टेबल के अनुसार अपने पढ़ाई को दिन प्रतिदिन करनी चाहिए.

इसके साथ टाइम टेबल के अनुसार हम अपने जोर विषय को ज्यादा समय और अन्य विषयों को अपने अनुसार समय देकर उस विषय में अपना कमांड बनाना बहुत जरूरी है और इन सभी चीजों के लिए टाइम टेबल होना जरूरी है.

इसलिए हर विद्यार्थी को टाइम टेबल के अनुसार अपने परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए.

उम्र सीमा

यदि आप भी एक अकाउंटेंट बनने की चाहत रखते हैं तो आपको एकाउंटिंग की सभी कोर्सो की जानकारी के साथ-साथ आपकी उम्र 21 से 27 साल के बीच होनी चाहिए.

हालांकि जनरल के लिए 21 से 27 साल की उम्र अकाउंटेंट पद को पाने के लिए आवश्यक है तथा दूसरे कष्टों के लिए सरकार द्वारा इज में  छूट भी दी जाती है.

चुनाव प्रक्रिया

अकाउंटेंट पद का सिलेक्शन डिपार्टमेंट के अनुसार अलग-अलग होती है. इसमें गवर्नमेंट के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर में भी अकाउंटेंट की हद होती है.

यदि आप गवर्नमेंट सेक्टर में जाते हैं तो रिटन एग्जाम और इंटरव्यू देना अनिवार्य है तभी आपका चयन संभव हो पाएगा.

यदि आप प्राइवेट सेक्टर में जाते हैं तो हालांकि इसमें आवेदन बहुत ही हम आने पर उम्मीदवार की डायरेक्ट स्किल टेस्ट या इंटरव्यू लेकर चयन किया जाता है.

अकाउंटेंट का जॉब क्या होता है? 

अकाउंटेंट का जॉब प्राइवेट सेक्टर के साथ-साथ गवर्नमेंट सेक्टर में भी संभव होती है इसमें उम्मीदवारों के एग्जाम में लाए गए अंकों के अनुसार अकाउंटेंट का पद दिया जाता है.

अकाउंटेंट के लिए सरकारी बैंक के साथ-साथ प्राइवेट बैंकों में भी उम्मीदवार अप्लाई कर सकते हैं. इसके साथ अकाउंटेंट का जॉब स्कूल, कॉलेज, मैनेजमेंट अकाउंटिंग, रियल स्टाफ फाइनेंस, इनकम टैक्स इत्यादि में एकाउंटिंग की जॉब दी जाती है.

अकाउंटेंट का कार्य

जो उम्मीदवार अकाउंटेंट की परीक्षा में सफल होते है उन्हें केंद्रीय राज्य सरकार के अंतर्गत डिपार्टमेंट में काम दी जाती है जिसमें उन्हें अपनी ईमानदारी को प्रदर्शित करना होता है.

बेसिक अकाउंटिंग का पहला का आए गए ट्रांजैक्शन को रिसर्च करने के साथ-साथ डाटा को कलेक्ट कर कंपनी को रिपोर्ट फॉर्म में प्रदर्शित करना होता है.

इस रिपोर्ट में अकाउंटेंट को यह लिखना होता है कि कंपनी को कितना प्रॉफिट हुआ और कितना लॉस इन सभी जानकारियों को इसमें लिख कर उन्हें प्रदर्शित करनी होती है.

कंपनी के परफॉर्मेंस को रिपोर्ट फॉर्म में प्रदर्शित करते हैं इसके साथ अपनी सजेशंस को भी प्रदर्शित करने के दौरान बताते हैं कि हमें इतनी प्रॉफिट हुई और इतनी लॉस हुई और इस लॉस की भरपाई करने के लिए हमें इस रास्ते में चलना होगा ताकि हमारा कंपनी आगे तरक्की करें.

इसके साथ डिपार्टमेंट में सबमिट सारे डॉक्यूमेंट को वेरीफाई करने का काम एक अकाउंटेंट का होता है जिसमें उन्हें सभी डॉक्यूमेंट को सटीक पूर्वक देखनी होती है कि कौन से डॉक्यूमेंट नकली हैं और कौन से डॉक्यूमेंट असली हैं और इनके डॉक्यूमेंट के हिसाब से इन्हें सैलरी दी जाए या नहीं यह सब काम एक अकाउंटेंट का होता है.

इन सभी चीजों के साथ साथ एक अकाउंटेंट का काम पैसे का लेन देन का बैकअप रखना होता है इसमें वह पैसे के तैयार कर गए लिस्ट को एक अलग जगह और रखे होते हैं ताकि काम पड़ने पर वे डेटाबेस से पैसे के लेनदेन कर लिस्ट निकाल सके.

इसके साथ एक अकाउंटेंट का काम यह भी होता है की आए गए नए कानूनों को पढ़कर उसके हिसाब से रिकॉर्ड को तैयार करना और इसके साथ नए कानूनों को आगे प्रोसेस भी कर देना.

यह सभी कार्य एक अकाउंटेंट का होता है जो उन्हें अपनी ईमानदारी पूर्वक करनी होती है जिससे उनकी कंपनी या डिपार्टमेंट आगे तरक्की कर सकें.

अकाउंटेंट किन क्षेत्रों में काम कर सकता है? 

एक अकाउंटेंट का कार्य लगभग हर क्षेत्र और हर उद्योग में होता है जिसमें उन्हें अलग-अलग तरीकों से कार्य करना होता है. जैसे public accounting, tax, audit, financial management accounting, real finance इत्यादि , इन सभी में एक अकाउंटेंट कार्य कर सकते हैं.

एक अकाउंटेंट की सैलरी

अकाउंटेंट पद सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट भी है इसलिए अकाउंटेंट पद उम्मीदवारों पर आधारित है कि वह किस सेक्टर में अकाउंटेंट पद को पाना चाहते हैं यदि वे प्राइवेट सेक्टर में अकाउंटेंट के रूप में काम करना चाहते हैं तो उनकी सैलरी 10 से 20000 शुरुआती में रहेगी.

वही जोमी द्वार अकाउंटेंट का जॉब गवर्नमेंट सेक्टर में कर रहे हैं उनकी सैलरी 25000 से स्टार्ट होती है. इसके पश्चात इनके कार्य के अनुसार इनकी सैलरी की भी वृद्धि की जाती है .

निष्कर्ष

अकाउंटिंग जॉब बहुत विद्यार्थियों की सपना होती है लेकिन इस जॉब को वही हासिल कर पाते हैं जो इमानदारी पूर्वक अपनी परीक्षा की तैयारी कर एग्जाम में पास होते हैं. आज हम अकाउंटेंट कैसे बने? इससे संबंधित सारी जानकारियों को आपको बताया है.

आशा है अब आपको अकाउंटेंट से संबंधित किसी भी जानकारी को पाने में वंचित नहीं रहेंगे. यदि आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो आप अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें.