RIP का Full Form क्या है पूरी जानकारी paisa news

आपने अक्सर सोशल मीडिया पर RIP शब्द का इस्तेमाल करते हुए देखा होगा परंतु आज भी बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनको मालूम ही नहीं है कि RIP शब्द का इस्तेमाल क्यों किया जाता है और कब करते हैं तथा आखिर RIP का Full Form क्या है।

आपने देखा होगा कि आज बहुत से सोशल मीडिया पर RIP शब्द का इस्तेमाल अधिक किया जा रहा है हो सकता है आपने पहले भी इन शब्द के बारे में सुन रखा हो या नहीं भी सुना हो परन्तु आज आप RIP के बारे में अच्छे से जान जाएंगे।

RIP Ka Full Form Kya Hai Hindi

यह आर्टिकल लिखते समय हमनें कुछ व्यक्तियों से RIP शब्द के बारे में जानने की कोशिश की ताकि हमें पता चल पाए की इन शब्द के प्रति उनकी अवधारणा क्या है औऱ हमने पाया कि इन शब्द के प्रति सभी की अलग-अलग अवधारणाएं है।

यह शब्द आज बहुत से लोगो के लिए एक उलझन का कारण बना हुआ है कि RIP क्या है और इसकी उत्पति कैसे हुई तथा इन शब्द का उपयोग क्यों किया जा रहा है आदि।

कुछ लोगों का कहना यह भी है कि पहले तो इन शब्द का इस्तेमाल हमारे सभी धर्म तथा समुदाय में नहीं किया जाता था फिर आज क्यों किया जा रहा है इसलिए इन सभी सवालों के जवाब आज हम आपको देने वाले है जिससे RIP के बारे में आपकी कोई भी जानकारी अधूरी ना रहे।

RIP का Full Form क्या है

RIP शब्द बोलने का मतलब यह है कि किसी मरे हुए व्यक्ति की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करना तथा RIP शब्द Return in peace का एक short form है यह दो लैटिन शब्दों से मिल कर बना है Requiescat व Pace बहुत पहले इन शब्द का इस्तेमाल सिर्फ ईसाई समुदाय के लोगों के लिए ही किया जाता था।

परन्तु आज अन्य समुदाय में भी इन शब्दो का इस्तेमाल अधिक किया जाने लगा है और Return in peace में Return शब्द के जगह पर Rest भी कहा जा सकता है।

जब ईसाई समुदाय में किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उनके मृत शरीर को दफना कर उनके कब्र पर क्रूस लगाया जाता हैं तथा इन्हीं क्रूस पर RIP लिखा जाता है औऱ क्रूस पर RIP लिखना ईसाई समुदाय के व्यक्तियों के लिए उनके आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करना है।

आज इन शब्द का इस्तेमाल लगभग सभी समुदाय के लोगो के लिए होने लगा है तथा सोशल मीडिया पर तो आज इन शब्द का इस्तेमाल काफी होने लगा है औऱ लोग अपनी डीपी व स्टेटस में RIP लिखकर संसार छोड़े गए लोगो के लिए अपनी भावनाओ को प्रकट करते है।

अगर हम RIP के बारे में एक शब्दो में कहना चाहे तो हम कह सकते है किसी मरे हुए व्यक्ति की आत्मा के शांति के लिए प्रार्थना करने के लिए इस सोशल मीडिया की दुनिया मे RIP शब्द को इस्तेमाल करने का चलन है।

RIP का Full Form अन्य क्षेत्र में

यहां आपके लिए समझने वाली बात है कि किसी अलग समय, काल तथा परिस्थिति में RIP शब्द के अर्थ तथा भाव बदल जाते है जैसे हम आपके लिए नीचे कुछ उदाहरण दिए है जिससे आप अच्छे से समझ सकते है।

कानून के क्षेत्र में RIP का Full Form
“Regulatory of Investment Powers”
कंप्यूटर के क्षेत्र में RIP का Full Form
“Routing Information Protocol”
फिजिक्स के क्षेत्र में RIP का Full Form
“Refractive Indri profile”

यह सभी अलग-अलग सन्दर्भो में RIP के अलग-अलग भाव तथा अर्थ है परन्तु RIP बोलना विशेष रूप से मृत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करना तथा अपनी भावना को जाहिर करना है।

RIP शब्द का प्रयोग हमेशा मृत व्यक्ति के लिए ही होता है अतः इसका प्रयोग कभी भी किसी जीवित व्यक्ति के लिए ना करे उनके दिलो को ठेस पहुँचेगी औऱ अगर आप मारने के बाद क्या होता है जाना चाहते है तो गुरुर पुराण को पढ़े।

RIP का इस्तेमाल कहां करते है

इसका अत्यधिक उपयोग कैथोलिक ईसाइयों के द्वारा किया जाता है परन्तु आज के आधुनिक युग में अन्य समुदाय में भी इन शब्द का उपयोग होने लगा है इसका इस्तेमाल आज Instagram, Facebook, WhatsApp, Twitter जैसे सोशल साइट पर अधिक किया जा रहा है।

लोग आज मरे हुए परिजनों के लिए स्टेटस तथा स्टोरी के रूप में RIP लिखकर अपने भावनाओं को प्रकट करते हैं परंतु ऐसा बात नहीं है कि सभी ईसाई समुदाय के लोग इस RIP शब्द को मानते हैं।

क्योंकि कुछ ईसाई धर्म का प्रोटेस्टेंट समुदाय के लोग इसे मानने से इंकार करते है औऱ उत्तरी आयरलैंड के प्रोटेस्टेंट समुदायों के लोगों ने सन् 2017 में RIP या Rest in Peace शब्द का उपयोग बंद करने का विरोध किया था उनका कहना है कि RIP शब्द कोई ईश्वरीय वचन नहीं है l

RIP या Rest in Peace को प्रार्थना के रूप में उपयुक्त किया गया है जोकि गलत है क्योंकि लैटिन में इसका अर्थ है “May he begin to rest in peace!” अर्थात् “वह शांति से आराम करना शुरू करें।

लेकिन इसके बाबजूद भी आज यह शब्द अपना प्रसार और लोकप्रियता हासिल करते जा रहा है अगर आपने कभी ध्यान दिया होगा तो पाया होगा की आज सोशल मीडिया पर ये “RIP” शब्द उन्ही पोस्ट में लिखा होता है जिसमें किसी व्यक्ति के मारने कि ख़बर होती है।

RIP का इस्तेमाल करना सही है या गलत?

जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तब RIP (Rest In Peace) शब्द उनके आत्मा के शांति के लिए बोला जाता है तथा हमे किसी व्यक्ति की मृत्यु पर संवेदना व्यक्त करना होता है तब हम इन शब्दों का इसतेमाल करते है।

मरने वालों की आत्मा के शांति के लिए भगवान से प्रार्थना करते है अब हम इसी भावना को व्यक्त करने के लिए लैटिन शब्द RIP का इस्तेमाल सोशल मीडिया पर अधिक कर रहे है।

Rest का हिंदी में अर्थ होता है आराम तथा peace का मतलब शांति है अगर आप Rest in peace को हिंदी में अनुवाद करेंगे तो इसका मतलब वह नहीं निकलेगा जो हम आपको ऊपर में बताए है परन्तु लैटिन भाषा के अनुसार इसका हिंदी अनुवाद आत्मा को शांति मिलना होता है।

RIP का इस्तेमाल क्यों किया जाता हैं

RIP शब्द का प्रचलन आजकल इन्टरनेट पर बहुत बढ़ गया है लेकिन इसका प्रयोग ज्यादातर इसाई धर्म के लोगों द्वारा उनकी कब्र पर बहुत पहले से किया जाता रहा है इसाई धर्म में जब किसी व्यत्क्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसे दफनाया जाता है और कब्र पर क्रूस बनाया जाता है और इसी पर RIP लिख दिया जाता है।

जब इसाई लोग किसी मृत शरीर को दफनाते है तब वह मृत आत्मा हमेशा के लिए कब्र में आराम करता है इसलिए ईसाई लोग कब्र के ऊपर ‘Rest in Piece’ लिख देते हैं इसी को शॉर्ट फॉर्म में लोग आज RIP लिखने लगे है जोकि आज यह शब्द हर जगह लोगों के बीच प्रचलित हो गया है।

हमारे देश बहुत से अलग-अलग धर्मों को माना जाता है प्रत्येक धर्म में जीवन और मरण के बारे में अलग-अलग संस्कारों तथा रीति-रिवाजों के बारे में बताया गया है साथ ही अलग-अलग धर्मों के अनुसार हमें अलग-अलग शब्दों के बारे में जानने को मिलता है इसी कारण ईसाई धर्म में किसी की मृत्यु होने पर REST IN PEACE या शार्ट फॉर्म में RIP शब्द का इस्तेमाल होता है।

इसी तरह अन्य धर्मों में भी ऐसे ही अलग-अलग दूसरे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है इन सभी शब्दों में धर्म, देश तथा भाषा के आधार पर बदलाव हुआ रहता है हमारे हर एक अलग-अलग धर्म में किसी भी व्यक्ति के मृत्यु हो जाने पर उनकी श्रद्धांजलि अलग-अलग तरीके से दी जाती है वहीं ईसाई धर्म में किसी व्यक्ति की श्रध्दांजलि देने के लिए उसके कब्र के ऊपर क्रूस बनाकर RIP लिख दिया जाता है।

किसी हिन्दू धर्म के मुताबिक़ ईसाई अथवा मुस्लिम धर्म में बहुत ही अलग-अलग तरीके से रीति रिवाज अपनाएं जाते है ईसाई धर्म में जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती हैं तो उस व्यक्ति के मृत शरीर को जमीन में दफन कर दिया जाता है।

क्योंकि इन धर्मों में लोगों का मानना है कि एक दिन “क़यामत का दिन” या “जजमेंट डे” जरूर आएगा और उस दिन सभी शव फिर से जीवित हो जायेंगे इसलिए उस दिन का इंतजार करने के लिए कब्र के ऊपर क्रूस बनाकर REST IN PEACE या RIP (शान्ति से आराम करो) शब्द लिख दिया जाता है।

हम उम्मीद करते हैं अब आप समझ गए होंगे कि RIP का Full Form फॉर्म क्या है और रिप को कब और कैसे इस्तेमाल किया जाता है उम्मीद करते हैं आपका हमारा ही आर्टिकल पसंद आया होगा और आप के लिए यह जानकारी बेहद मददगार रही होगी।

तो अगर आपको हमारे यहां आर्टिकल पसंद आता है तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी पता लगे कि जो लोग सोशल मीडिया पर RIP का इस्तेमाल करते हैं उसका क्या मतलब होता है और वह क्यों इस्तेमाल किया जाता है।

हम उमीद करते है कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा और इसे आपकों मद्त मिली होगी तो अगर यह किसी भी तरह से आपके लिए लाभदायक रहा हो तो इसे कम से कम अपने दो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

हर जानकारी अपनी भाषा हिंदी में सरल शब्दों में प्राप्त करने के हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे जहाँ आपको सही बात पूरी जानकारी के साथ प्रदान की जाती है हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

close